जिले के बारे में

वर्ष १७६४ में हुए बक्सर के युद्ध में गया ब्रिटिश शासकों के हाथों में चला गया था | शुरुआत में सन १८६४ तक गया तत्कालीन बेहार एवं रामगढ़ जिलों का हिस्सा हुआ करता था | अन्ततः गया को दिनांक ३ रा अक्टूबर, सन १८६५ को एक पूर्ण तथा स्वतन्त्र जिला का दर्ज़ा प्राप्त हुआ जिसमे तीन अनुमंडल यथा गया, औरंगाबाद, एवं नवादा को शामिल किया गया | वर्ष १९४७ में देश के अन्य सभी प्रान्तों के साथ-साथ गया भी स्वतन्त्र भारत का एक जिला बना | कालान्तर में वर्ष १९७३ में औरंगाबाद एवं नवादा इन दो अनुमंडलों को मुल गया जिले से काटकर दो अलग जिलों का गठन किया गया | एकबार पुनः दिनांक ०१ अगस्त’ १९८६ को गया को बिघटित कर जहानाबाद जिले का गठन किया गया | हाल ही में बिगत अगस्त’ २००१ में जहानाबाद को बिभाजित कर ओर एक नया अरवल जिला का सृजन किया गया है |

अन्ततोगत्वा बिगत मई’ १९८१ में बिहार राज्य सरकार द्वारा अधिसूचना में माध्यम से कुल पांच जिलों गया, औरंगाबाद, नवादा, जहानाबाद एवं अरवल को सम्मिलित करते हुए एक नया मगध प्रमंडल का सृजन किया गया तथा इसका मुख्यालय गया को बनाया गया |

सामान्य सूचना :

 जिला :: गया  मुख्यालय :: गया  भाषा :: हिन्दी

क्षेत्रफल :

 कुल : ४,९७६ वर्ग कि.मी.  ग्रामीण : ४,८९०.७४ वर्ग कि.मी.  शहरी : ८५.२६ वर्ग कि.मी.

जनसंख्या (जनगणना-२०११):

 कुल : ४३.९१ लाख  ग्रामीण : ३८.०९.८१७  शहरी : ५,८१,६०१

निर्वाचन क्षेत्र :

 लोकसभा – ०१ (गया अ.जा.)  विधानसभा – कुल १०